Tumgir
#उत्सव के खाद्य पदार्थ
everynewsnow · a year ago
Text
Chawal Ki Hisse - बिहार और महाराष्ट्र के इस पारंपरिक चावल बिस्किट को आजमाएं (देखें रेसिपी वीडियो)
Chawal Ki Hisse – बिहार और महाराष्ट्र के इस पारंपरिक चावल बिस्किट को आजमाएं (देखें रेसिपी वीडियो)
वसंत यहां है और यह वर्ष का वह समय है जब आप बाहर जाने के लिए प्यार करते हैं, हर सुखद, लंबे दिनों का आनंद लेते हैं। वसंत भी त्योहारों की एक कड़ी के साथ-साथ वापस लाता है। वसंत पंचमी और महाशिवरात्रि को चिह्नित करने के बाद, हम जल्द ही रंगों के त्योहार होली, गुड़ी पड़वा और वसंत नवरात्रि मनाने के लिए तैयार हैं। और त्योहारों को और अधिक विशेष बनाने के लिए, हम कई स्वादिष्ट व्यंजन (पकवाँ) तैयार करते हैं और…
View On WordPress
0 notes
videshsamachaar · a month ago
Text
जापान में संगठित आपराधिक संगठनों में दिखी क्रूर प्रथा, नग्न महिला के शरीर पर परोसा जाता है खाना
Tumblr media
टोक्यो, शनिवार, 9 जुलाई, 2022
जापान में, नग्न लड़की के शरीर पर कलात्मक रूप से भोजन परोसने की एक पुरानी परंपरा थी। यह अजीब प्रथा आज भी जापान के अपराध से जुड़े संगठित अपराध जगत में देखने को मिलती है।
माना जाता है कि यह प्रथा जापान के टोक्यो में अधिक प्रचलित है, जो प्रौद्योगिकी में एक कदम आगे है। सुशी और साशिमी सहित कई जापानी खाद्य और पेय पदार्थ प्रशंसित हैं। इस व्यंजन का व्यंजन न्यूटिमोरी नामक महिला के नग्न शरीर पर परोसा जाता है। समुराई योद्धाओं के समय जापान में न्योताइमोरी की प्रथा प्रचलित थी।
एक सूत्र के अनुसार किसी भी युद्ध में जीत के बाद गीशा (जापानी नर्तकी) के घर पर उत्सव मनाया जाता था। युवती के शरीर पर रखे जाने से पहले गर्म भोजन को अक्सर ठंडे पानी से नहलाया जाता है। कामुक दिखने वाला यह तरीका बहुत असुरक्षित होते हुए भी संगठित अपराधियों में पाया जाता है।
न्यूटिमोरी के लिए चुनी गई लड़की को आकर्षक और टिकाऊ होने की जरूरत है। भोजन समाप्त होने तक उसे नग्न सोने में सक्षम होना चाहिए। भोजन की थाली की तरह जब शरीर पर रखा जाता है। लड़की को एक लाश की तरह मेज पर लेटना होता है जब तक कि सारा खाना नहीं खा लिया जाता है।
कुछ मेहमानों को कुछ बुरा लगने पर टिप्पणी या चर्चा करने पर भी चुप रहना पड़ता है।कभी-कभी उन्हें एक से दो घंटे तक सोना पड़ता है। इस प्रथा को चीन के साथ-साथ जापान में भी देखा गया था लेकिन नैतिक और स्वास्थ्य कारणों से इसे प्रतिबंधित कर दिया गया है। जानकारों का मानना ​​है कि जापान में यह प्रथा चल रही है लेकिन इसकी जगह मिलना मुश्किल है।
0 notes
vamaapp · 3 months ago
Text
Tumblr media
अक्षय तृतीया विशेषांक-
वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया कहते हैं। यह सनातन धर्मावलंबियों का प्रधान त्यौहार है। इस दिन दिए हुए दान और किए हुए स्नान, होम, जप-तप एवं पूजा-पाठ आदि सभी कर्मों का फल अनंत होता है ,और सभी अक्षय हो जाते हैं इसी से इसका नाम अक्षय तृतीया हुआ है।
इस तिथि को श्री नर नारायण, श्री परशुराम जी एवं भगवान् श्रीविष्णुजी के हयग्रीव आदि अवतार हुए थे। इसलिए इस दिन उनकी जयंती मनाई जाती है। विशेष बात और भी है कि इस अक्षय तृतीया तिथि को त्रेता युग का भी आरंभ हुआ था ।
अक्षय तृतीया अत्यंत पवित्र और महान् फल देने वाली तिथि है , इसीलिए इस दिन जीवन के प्रत्येक क्षेत्रों में सफलता की आशा से व्रत- उत्सव आदि के अतिरिक्त वस्त्र,शस्त्र स्वर्ण आदि के आभूषण क्रय किए जाते हैं, बनवाए जाते हैं और धारण भी किए जाते हैं।
यह अक्षय तृतीया तिथि स्वयं सिद्ध मुहूर्त के नाम से जानी जाती है इसीलिए इस दिन नवीन स्थान, नूतन संस्थान, व्यावसायिक प्रतिष्ठान का उद्घाटन एवं स्थापन किया जाता है। इस बार अक्षय तृतीया के दिन मंगलवार पड़ रहा है इसलिए सिद्ध योग होने से इस दिन किए हुए प्रत्येक कार्यों में सिद्धि की प्राप्ति होगी और कार्य बनेंगे । मंगल भूमि का पुत्र होने से भूमि संबंधी क्रय- विक्रय व्यापार आदि क्षेत्रों में वृद्धि के पूर्ण संकेत हैं । जो भी बन्धु इन सभी क्षेत्रों में व्यापार कर रहे हैं उनका लाभ शत- प्रतिशत सुनिश्चित है।
अक्षय तृतीया तिथि में जो भक्त व्रत रहते हैं उन्हें प्रातः काल गंगा- स्नान करना चाहिए तथा भगवान् का पूजन करके भगवान् श्रीनर-नारायण के निमित्त भुने हुए जौ अथवा गेहूँ का सत्तू (पंजीरी), श्रीपरशुराम जी के निमित्त कोमल ककड़ी एवं भगवान् श्री हयग्रीव के निमित्त भीगी हुई चने की दाल अर्पण करना चाहिए।
इस अक्षय तृतीया को गौरी पूजन भी किया जाता है। भगवती पार्वती का श्रद्धा एवं भक्ति-भाव से पूजन करके कलश में जल,फल,पुष्प,गन्ध,तिल और अन्न भरकर इस मन्त्र का उच्चारण कर ब्राह्मण को प्रदान करने से सकल मनोरथ पूर्ण होते हैं।
एष धर्मघटो दत्तो ब्रह्मविष्णुशिवात्मकः।अस्य प्रदानात्सकला मम सन्तु मनोरथा:।।
इस अक्षय तृतीया के दिन जौ, चने एवं सत्तू , दही,चावल का खीर,गन्ने का रस , दूध से बने हुए खाद्य पदार्थ, स्वर्ण एवं जल से पूर्ण कलश,अन्य सभी प्रकार के रस और ग्रीष्म ऋतु के उपयोगी वस्तुओं का दान करना चाहिए। यह सब यथाशक्ति करने से अनन्त फल प्राप्त होता है।
#akshyatritiya #blog #information #fact #akshyatritiya2022
0 notes
divyabhashkar · 4 months ago
Text
नवरात्रि 2022: ये 5 नवरात्रि-विशिष्ट व्यंजन आपको ऊर्जा से भर सकते हैं
नवरात्रि 2022: ये 5 नवरात्रि-विशिष्ट व्यंजन आपको ऊर्जा से भर सकते हैं
चैत्र नवरात्रि पर्व निकट है! इस वर्ष, यह उत्सव 2 अप्रैल 2022 को शुरू होगा और 11 अप्रैल 2022 को समाप्त होगा। यह त्योहार देवी दुर्गा के नौ अवतारों की पूजा के लिए समर्पित है और नौ दिनों की अवधि में मनाया जाता है। प्रत्येक दिन दुर्गा के एक अलग रूप को समर्पित है। इस समय के दौरान, बहुत से लोग उपवास करते हैं और उन्हें केवल कुछ विशेष प्रकार की सामग्री और खाद्य पदार्थ खाने की अनुमति होती है। यह व्रत, कुछ…
Tumblr media
View On WordPress
0 notes
newslallantop1 · 4 months ago
Text
ठंडाई आइस टी पकाने की विधि: इस अद्भुत पेय के साथ होली का अधिक से अधिक आनंद लें
ठंडाई आइस टी पकाने की विधि: इस अद्भुत पेय के साथ होली का अधिक से अधिक आनंद लें
होली आने ही वाली है और साल के सबसे रंगीन त्योहारों में से एक को मनाने के लिए तैयारियां चरम पर हैं। गुलाल, गुझिया और पानी की तोपों ने स्थानीय बाजारों में अपनी मजबूत जगह बना ली है; और हम होली पार्टी की व्यवस्था करने में व्यस्त हैं। होली के उत्सव में भोजन एक प्रमुख भूमिका निभाता है। हम होली को भोग लगाने के लिए गुझिया, कचौरी, दही भल्ला, जलेबी और कई अन्य मीठे और नमकीन खाद्य पदार्थ तैयार करते हैं। दावत…
View On WordPress
0 notes
bp100news · 7 months ago
Text
बिहू 2022: तिथि, महत्व और खाद्य पदार्थ जो इसे एक लोकप्रिय त्योहार बनाते हैं
बिहू 2022: तिथि, महत्व और खाद्य पदार्थ जो इसे एक लोकप्रिय त्योहार बनाते हैं
मकर संक्रांति वर्ष का पहला अखिल भारतीय त्योहार है। तिलकुट और गुड़ इस त्योहार की उत्सव की तैयारियों के दो मुख्य घटक हैं। हालांकि, मकर संक्रांतिदेश के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है और इसमें स्थानीय व्यंजन शामिल हैं। उदाहरण के लिए, इसे असम में भोगली बिहू या माघ बिहू के रूप में मनाया जाता है। लोग इस त्योहार के दौरान न केवल खुद को नए कपड़े पहनते हैं बल्कि बेहद मुंह में पानी भी…
Tumblr media
View On WordPress
0 notes
a-2-z-news · 7 months ago
Text
बिहू 2022: तिथि, महत्व और खाद्य पदार्थ जो इसे एक लोकप्रिय त्योहार बनाते हैं
बिहू 2022: तिथि, महत्व और खाद्य पदार्थ जो इसे एक लोकप्रिय त्योहार बनाते हैं
मकर संक्रांति वर्ष का पहला अखिल भारतीय त्योहार है। तिलकुट और गुड़ इस त्योहार की उत्सव की तैयारियों के दो मुख्य तत्व हैं। हालांकि, मकर संक्रांतिदेश के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है और इसमें स्थानीय व्यंजन शामिल हैं। उदाहरण के लिए, इसे असम में भोगली बिहू या माघ बिहू के रूप में मनाया जाता है। लोग इस त���योहार के दौरान न केवल खुद को नए कपड़े पहनते हैं बल्कि बेहद मुंह में पानी भी…
Tumblr media
View On WordPress
0 notes
karanaram · 9 months ago
Text
🚩गोपाष्टमी पर्व क्यों मनाया जाता है? उस दिन हमें क्या करना चाहिए? - 9 नवम्बर 2021
🚩 वर्ष में जिस दिन गायों की पूजा-अर्चना आदि की जाती है वह दिन भारत में ‘गोपाष्टमी’ के नाम से जाना जाता है। इस साल गोपाष्टमी 11 नवम्बर को मनाई जाएगी।
Tumblr media
🚩गोपाष्टमी का इतिहास:-
🚩गोपाष्टमी महोत्सव गोवर्धन पर्वत से जुड़ा उत्सव है। गोवर्धन पर्वत को द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण ने कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा से लेकर सप्तमी तक गायों व सभी गोप-गोपियों की रक्षा के लिए अपनी एक अंगुली पर धारण किया था। गोवर्धन पर्वत को धारण करते समय गोप-गोपिकाओं ने अपनी-अपनी लाठियों का भी टेका दे रखा था, जिसका उन्हें अहंकार हो गया कि हम लोगों ने ही गोवर्धन को धारण किया है। उनके अहं को दूर करने के लिए भगवान ने अपनी अंगुली थोड़ी तिरछी की तो पर्वत नीचे आने लगा। तब सभी ने एक साथ शरणागति की पुकार लगायी और भगवान ने पर्वत को फिर से थाम लिया।
🚩उधर देवराज इन्द्र को भी अहंकार था कि मेरे प्रलयकारी मेघों की प्रचंड बौछारों को मानव श्रीकृष्ण नहीं झेल पायेंगे परंतु जब लगातार सात दिन तक प्रलयकारी वर्षा के बाद भी श्रीकृष्ण अडिग रहे, तब आठवें दिन इन्द्र की आँखें खुलीं और उनका अहंकार दूर हुआ। तब वे भगवान श्रीकृष्ण की शरण में आए और क्षमा मांगकर उनकी स्तुति की। कामधेनु ने भगवान का अभिषेक किया और उसी दिन से भगवान का एक नाम ‘गोविंद’ पड़ा। वह कार्तिक शुक्ल अष्टमी का दिन था। उस दिन से गोपाष्टमी का उत्सव मनाया जाने लगा, जो अब तक चला आ रहा है।
🚩कैसे मनायें गोपाष्टमी पर्व?
🚩इस साल 11 नवम्बर को गोपाष्टमी है उस दिन गायों को स्नान कराएं। तिलक करके पूजन करें व गोग्रास दें। गायों को अनुकूल हो ऐसे खाद्य पदार्थ खिलाएं, सात परिक्रमा व प्रार्थना करें तथा गाय की चरणरज सिर पर लगाएं। इससे मनोकामनाएँ पूर्ण होती हैं एवं सौभाग्य की वृद्धि होती है।
🚩गोपाष्टमी के दिन सायंकाल गायें चरकर जब वापस आयें तो उस समय भी उनका आतिथ्य, अभिवादन और पंचोपचार-पूजन करके उन्हें कुछ खिलायें और उनकी चरणरज को मस्तक पर धारण करें, इससे सौभाग्य की वृद्धि होती है।
🚩भारतवर्ष में गोपाष्टमी का उत्सव बड़े उल्लास से मनाया जाता है। विशेषकर गौशालाओं तथा पिंजरापोलों के लिए यह बड़े महत्त्व का उत्सव है। इस दिन गौशालाओं में एक मेला जैसा लग जाता है। गौ कीर्तन-यात्राएँ निकाली जाती हैं। यह घर-घर व गाँव-गाँव में मनाया जानेवाला उत्सव है। इस दिन गाँव-गाँव में भंडारे किये जाते हैं।
http://play.google.com/store/books/details/Sant_Shri_Asharamji_Ashram_स_ख_सम_द_ध_क_आध_र_ग_य?id=jLX8DwAAQBAJ
🚩विश्व के लिए वरदानरूप: गोपालन
🚩देशी गाय का दूध, दही, घी, गोबर व गोमूत्र सम्पूर्ण मानव-जाति के लिए वरदानरूप हैं। दूध स्मरणशक्तिवर्धक, स्फूर्तिवर्धक, विटामिन्स और रोगप्रतिकारक शक्ति से भरपूर है। घी ओज-तेज प्रदान करता है। इसी प्रकार गोमूत्र कफ व वायु के रोग, पेट व यकृत (लीवर) आदि के रोग, जोड़ों के दर्द, गठिया, चर्मरोग आदि सभी रोगों के लिए एक उत्तम औषधि है। गाय के गोबर में कृमिनाशक शक्ति है। जिस घर में गोबर का लेपन होता है वहाँ हानिकारक जीवाणु प्रवेश नहीं कर सकते। पंचामृत व पंचगव्य का प्रयोग करके असाध्य रोगों से बचा जा सकता है। ये हमारे पाप-ताप भी दूर करते हैं। गाय से बहुमूल्य गोरोचन की प्राप्ति होती है।
🚩देशी गाय के दर्शन एवं स्पर्श से पवित्रता आती है, पापों का नाश होता है। गोधूलि (गाय की चरणरज) का तिलक करने से भाग्य की रेखाएँ बदल जाती हैं। ‘स्कंद पुराण’ में गौ-माता में सर्व तीर्थों और सभी देवताओं का निवास बताया गया है।
🚩गायों को घास देने वाले का कल्याण होता है। स्वकल्याण चाहनेवाले गृहस्थों को गौ-सेवा अवश्य करनी चाहिए क्योंकि गौ-सेवा में लगे हुए पुरुष को धन-सम्पत्ति, आरोग्य, संतान तथा मनुष्य-जीवन को सुखकर बनानेवाले सम्प��र्ण साधन सहज ही प्राप्त हो जाते हैं।
🚩विशेष: ये सभी लाभ देशी गाय से ही प्राप्त होते हैं, जर्सी व होल्सटीन से नहीं।
(स्रोत : संत श्री आशारामजी आश्रम द्वारा प्रकाशित "गाय" साहित्य से)
1 note · View note
newsreporters24 · a year ago
Text
Watch: Kiara Advani Celebrated Her Birthday With Plenty Of Balloons And Special Cake
Watch: Kiara Advani Celebrated Her Birthday With Plenty Of Balloons And Special Cake
जन्मदिन एक विशेष अवसर है जिसे हम परिवार और प्रियजनों के साथ मनाते हैं, साथ ही साथ ढेर सारे खाद्य पदार्थ और पेय भी। ज्यादातर लोगों के लिए, किसी भी जन्मदिन समारोह का सबसे अच्छा हिस्सा निस्संदेह जन्मदिन का केक होता है और यह अभिनेत्री कियारा आडवाणी के लिए अलग नहीं है। उन्होंने हाल ही में 31 जुलाई को अपना जन्मदिन अपने दोस्तों और परिवार के साथ मनाया। जबकि कियारा का जन्मदिन समारोह एक मस्ती से भरे उत्सव…
Tumblr media
View On WordPress
0 notes
duniyakelog · 2 years ago
Text
क्रिस प्रैट हिलेरियसली ने कैथरीन श्वार्ज़नेगर के बेकिंग वीडियो को बाधित करते हुए कहा कि वह उसकी रेसिपी की प्रशंसा करता है
कैथरीन श्वार्ज़नेगर प्रैट के लिए, पति क्रिस प्रैट के साथ रहने का सुस्त पल कभी नहीं रहा।
कई अन्य लोगों की तरह, कोरोनोवायरस महामारी के बीच दंपत्ति सामाजिक रूप से दूर रहे हैं, और पिछले सप्ताह में, श्वार्ज़नेगर प्रैट ने रसोई में नए व्यंजनों की कोशिश करके व्यस्त रखा है।
द गिफ्ट ऑफ फॉरगिवनेस लेखक, 30, ने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी संडे पर अपने नवीनतम उद्यम, स्ट्रॉबेरी शॉर्टकेक रेसिपी का दस्तावेजीकरण किया और प्रशंसकों का उनके अभिनेता पति के स्वागत के साथ स्वागत किया गया।
जैसा कि श्वार्ज़नेगर प्रैट ने पहली बार अपनी सामग्री को एक साथ इकट्ठा करना शुरू किया, उसने अपने अनुयायियों को चेतावनी दी कि वे पृष्ठभूमि में कुछ हंगामा सुन सकते हैं।
"जब मैं इस वीडियो को करता हूं, तो मैं यह कहकर इसे पेश करूंगा कि मेरे पति पृष्ठभूमि में गोल्फ खेल रहे होंगे," उसने 40 साल के प्रैट के रूप में हंसते हुए कहा, "रुको! मुझे दिखाओ, यह सौभाग्य होगा, ”अपनी पत्नी को कैमरा घुमाते हुए बताया।
श्वार्ज़नेगर प्रैट ने कहा, "मैंने अभी इसे स्थापित किया है।"
संबंधित: सेलेब्रिटी फूड: देखें कि घर में खाना पकाने वाले सितारे सामाजिक दूरी पर हैं
अपने सभी शुष्क अवयवों को एक साथ रखते हुए, अर्नोल्ड श्वार्ज़नेगर और मारिया श्राइवर की बेटी ने हँसना शुरू कर दिया क्योंकि प्रैट को पृष्ठभूमि में चिल्लाते हुए सुना जा सकता है, “अरे हाँ! उस ड्राइव पर जाओ! हे भगवान, यह बहुत मजेदार था।
एक समय पर, गैलेक्सी स्टार के रखवालों ने पिछले सप्ताह किए गए "फॉल इन लव" केले की रोटी का एक टुकड़ा खाने के दौरान अपनी पत्नी के पाक कौशल की प्रशंसा करने के लिए फ्रेम में पॉप किया ।
संबंधित: ये शीर्ष प्रवृत्ति वाले खाद्य पदार्थ हैं जो लोग स्व-अलगाव में बना रहे हैं - और प्रत्येक के लिए एक नुस्खा
इस पोस्ट को इंस्टाग्राम पर देखें
इन अनिश्चित समय के दौरान देश भर में जरूरतमंद लोगों को ताजा भोजन वितरित करने के लिए @ धन्यवाद। अपना समर्थन दिखाने के लिए, मैं @sweetlaurelbakery की इस अद्भुत रेसिपी को साझा करना चाहता था, उस @laurelgallucci और मैंने दूसरे दिन सिर्फ "फॉल इन लव" केले की रोटी खाई! नुस्खा के लिए अंत तक बने रहना सुनिश्चित करें और यह जानने के लिए कि आप इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित लोगों की मदद कैसे करें। #RecipesForThePeople #WCK #AmericasFoodFund
कैथरीन श्वार्जनेगर (@katherineschwarzenegger) द्वारा 15 अप्रैल, 2020 को दोपहर 2:28 बजे पीडीटी पर साझा किया गया एक पोस्ट
//www.instagram.com/embed.js
"मैं यहां यह देखने के लिए आया हूं कि कैथरीन की केले की रोटी वास्तव में उल्लेखनीय है," उन्होंने कहा। "मुझे यह पसंद है। जब वह कहती है कि हम दोनों रोटियाँ हमारे लिए हैं तो मुझे थोड़ा सा अंदर जाना चाहिए। ”
प्रैट ने भविष्यवाणी की, "वे एक दिन से भी कम समय में चले जाएंगे।"
श्वार्ज़नेगर प्रैट ने तब अपने बाकी के बेकिंग को प्रैट से बिना किसी रुकावट के पूरा कर लिया, जो अपने गोल्फ सत्र को पूरा करते दिखाई दिए।
पिछले सप्ताहांत में, दंपति ने एक अंतरंग ईस्टर रविवार एक साथ बिताया, अपने घर के अंदर से छुट्टी में बज रहे थे, और प्रैट की इंस्टाग्राम स्टोरी पर अपने उत्सव को साझा कर रहे थे। ऑनवर्ड स्टार ने अपनी कम-कुंजी ईस्टर योजनाओं को दिखाया, जिसमें एक quiche खाना पकाने, एक आभासी चर्च सेवा स्ट्रीमिंग और एक एट-होम अंडे शिकार करना शामिल था।
इस पोस्ट को इंस्टाग्राम पर देखें
हाँ, मैंने बनाया है, मेरी प्यारी @emilyschuman के लिए धन्यवाद कल नुस्खा पोस्ट करने के लिए! रविवार रविवार वास्तव में! मुझे स्क्रैच से पूरी चीज़ बनाते हुए देखो, (पृष्ठभूमि में मेरे रसोइये पति के साथ, क्योंकि वह हां के लिए संगरोध पाक है!) मेरी कहानी में नुस्खा! खुश बेकिंग!
Tumblr media Tumblr media Tumblr media
कैथरीन श्वार्ज़नेगर (@katherineschwarzenegger) द्वारा 19 अप्रैल, 2020 को दोपहर 3:20 बजे पीडीटी पर साझा की गई एक पोस्ट
//www.instagram.com/embed.js
संबंधित: अर्नोल्ड श्वार्ज़नेगर 'ग्रैंडकिड्स के लिए आगे देख रहे हैं, लेकिन बेटी' कैथरीन 'नहीं करेंगे
इस जोड़ी ने पिछले साल 8 जून को कैलिफोर्निया में एक साल की डेटिंग के बाद शादी के बंधन में बंधे। ई के कमरे में हाल ही में उपस्थिति के दौरान , प्रैट ने मेजबान और दोस्त जेसन कैनेडी के लिए खोल दिया कि कैसे उनकी पत्नी से मिलने और शादी करने का असर पड़ा है।
प्रैट ने कहा, "उसने इतने तरीकों से मेरी जिंदगी को बेहतर तरीके से बदल दिया है।" “मेरा दिल, मेरी आत्मा, मेरा बेटा मुझे लगता है कि सभी उसके साथ इतने सुरक्षित हैं। वह एक महान सौतेली माँ है। ”
एक के पिता ने कहा, "वह भगवान है, एक दिन एक महान माँ बनने के लिए तैयार है। उसे महान माता-पिता, बड़े भाई-बहन मिले, वह मेरी सभी कमियों को पूरा करता है। ”
श्वार्ज़नेगर प्रैट, प्रैट के 7 वर्षीय बेटे जैक के बहुत करीब हो गए हैं, जिसे उन्होंने पूर्व पत्नी अन्ना फारिस के साथ साझा किया है।
https://ift.tt/2cgiiJd
0 notes
indianhealthandmedicine · 2 years ago
Text
वुहान में फंसा अमेरिकी शख्स: ऐसा लगता है 'गोधूलि क्षेत्र'
Tumblr media
जॉन मैक्गोरी ने चीनी शहर वुहान में निमोनिया के बारे में अपने भाई की चिंताओं को दूर किया, जहां जॉन वर्षों से एक प्रवासी था। 'ओह, चीन में हर समय इस तरह की कहानियां होती हैं। मुझे चिंता नहीं है, 'जॉन ने अपने भाई से कहा। 20 जनवरी तक चीजें ठीक नहीं हुईं, जब एक बछड़े के साथ एक आदमी ने मांग की कि वह और उसके साथी यात्री मेट्रो कार से उतर जाएं, जो शहर में सार्वजनिक परिवहन बंद कर रहे थे। अब, वह वुहान में फंसे अमेरिकियों में से एक है, जो कोरोनोवायरस प्रकोप के केंद्र में एक बंद-नीचे भूतों का शहर है, जिसने दुनिया भर के 6,000 से अधिक लोगों को बीमार कर दिया और 133 को मार डाला - उनमें से अधिकांश दक्षिणी चीनी शहर में वहीं हैं। जॉन मैक्गोरी (बाएं) वुहान में फंसे हुए हैं जहां उन्होंने कोरोनोवायरस प्रकोप के बीच लंबे समय तक अंग्रेजी सिखाई है (चित्र: बंद होने से पहले एक ट्रेन की सवारी करने वाले दोस्त के साथ) जॉन, मूल रूप से कोलंबस, ओहियो, ने खौफ में देखा है कि चीनी शहर उसका घर बन गया है जो उसकी आंखों के सामने बदल गया है। पिछले हफ्ते, जिस विश्वविद्यालय में उन्होंने पिछले छह वर्षों से अंग्रेजी सिखाई है, वहां एक उत्सव के शिक्षकों के लंच का कारोबार किया, जो कि लूनर न्यू ईयर से पहले पैकेजिंग के साथ जमे हुए खाद्य पदार्थों के लिए योजनाबद्ध थे, जो उन्हें बाहरी कीटाणुओं से बचाते थे। प्रशासकों ने फेस मास्क और हैंड सैनिटाइजर सौंपे। अगले दिन, 23 जनवरी को, पूरे शहर को लॉकडाउन पर रखा गया था, किसी को भी शहर में प्रवेश करने या छोड़ने से रोक दिया गया था जहां एक खतरनाक क्लिप में कोरोनोवायरस के नए मामले सामने आ रहे थे। "मेरा पहला विचार है," कुछ भोजन प्राप्त करें, "" वह अमेरिकी भाषण कंपनी पर अपने ब्लॉग पर लिखते हैं। सार्वजनिक स्थान जैसे मॉल अब वीरान हो गए हैं किराने की दुकानों तो लगता है कि किसी भी व्यवसाय के साथ ही जगह है। मॉल और सड़कें लगभग निर्जन हैं, जॉन लिखते हैं। ताजा सब्जियां जल्दी से खरीद ली गई हैं लेकिन जब जॉन अपने अपार्टमेंट के पास एक वॉलमार्ट में गए तो चीजें बहुत अच्छी तरह से स्टॉक की गई थीं। दूसरी ओर, चेहरे के मुखौटे, जल्दी से बिक जाते हैं और जॉन को केवल उस विश्वविद्यालय में प्रवेश करने और बाहर निकलने की अनुमति दी जाती है जहां वह काम करता है यदि उसने एक पहना हो। जॉन 65 वर्ष के हैं। उनकी उम्र उनके लिए विशेष रूप से चिंता का विषय है क्योंकि अधिकांश रोगियों ने गंभीर बीमारियों का विकास किया है या कोरोनोवायरस से मृत्यु हुई है, उनकी अंतर्निहित स्थिति है या पुराने वयस्क हैं। जॉन लिखते हैं, 'बीमार होने का डर सबको सताता है।' 'मेरा खुद का दिमाग डर से अच्छा है। 'मुझे लगातार आश्चर्य होता है, "मेरे गले में खराश हो रही है? मुझे लगता है कि यह है।" हर खांसी मेरे 65 साल के शरीर के लिए चिंता का विषय है। ' विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बुधवार को कहा, अब तक कोरोनोवायरस की मृत्यु दर लगभग दो प्रतिशत है। यह संक्रमण से मरने वाले SARS पीड़ितों के 14 से 15 प्रतिशत से बहुत कम है - लेकिन फ्लू की मृत्यु दर का लगभग 100 गुना। जॉन कहते हैं, '' मुझे डर नहीं है कि मैं चिंतित हूं। लॉकड के बीच घिरे वुहान के नागरिकों ने किराने की दुकानों में पानी भर दिया हरी सब्जियां लगभग तुरंत ही बेच दी गईं, लेकिन जॉन ने कहा कि जमे हुए खाद्य पदार्थ भरपूर मात्रा में थे 'हम अपने जीवन का अधिकांश समय जोखिमों के प्रबंधन में बिताते हैं, लेकिन वायरस से संक्रमित, चीनी शहर में रहने वाले 11 मिलियन भयभीत लोग दैनिक जीवन जीने के लिए एक अलग वातावरण बनाते हैं।' अब न तो वह और न ही वुहान में रहने वाले अन्य लोग अब काम पर जा सकते हैं, और अपना ज्यादातर समय अपने घरों में बिता सकते हैं। जॉन ने यूएसए टुडे को बताया कि अमेरिका ने उसे आज चीन से कुछ 201 अमेरिकियों को वापस लेने वाली निकासी उड़ान पर एक सीट की पेशकश की, लेकिन एक पासपोर्ट समस्या ने उसे अपना स्थान खो दिया। कोई नहीं बता रहा है कि जॉन कब वुहान से बाहर निकलेगा। जॉन लिखते हैं, 'वुहान को ऐसा लगता है कि इसने गोधूलि क्षेत्र में कदम रखा।' 'रॉड सर्लिंग ने शो के पहले एपिसोड में "हर कोई कहां है?" 'मैं एक अमेरिकी हूं, एक दक्षिणी चीनी मेगासिटी में इस अराजकता के केंद्र में पकड़ा गया जो एक आरामदायक, अच्छी तरह से चलने वाले शहर से बाहर निकलने के कगार पर चला गया है।'
0 notes
onlinekhabarapp · 3 years ago
Text
दशैंको भान्साः कसरी स्वस्थ्यकर खानेकुरा छनौट गर्ने ?
नेपालीको महान पर्व दशैं-तिहार नजिकिदै छ । दशैंको खास विशेषता भनेकै मिठोमसिनो खाने हो । हुन त अहिले मिठो मसिनो खान दशैं पर्खनुपर्ने वाध्यता छैन । यद्यपी दशैंसँग जोडिएर आउने स्वादिलो खानपानको कारण यो पर्व विशेष मानिन्छ ।
दशैं भन्नसाथ खसीको पक्कु खाने चाड मानिन्छ । घर-घरमा घोर्ले खसी ल्याएर बाँधेपछि मात्र कतिले दशैंको रौनक आएको ठान्छन् । त्यसो त खसी मात्र होइन, रागा, भैसी, कुखुरा, हाँस, सुँगुर सबैथरीका मासु यसबेलाको खास खान्की बन्छ । दशैंको मेसोमा नेपाली समाजले अत्याधिक माछामासु खपत गर्छ ।
तर, अर्को पाटोबाट कुरा गर्दा के भनिन्छ भने, खानपानकै कारण अहिले धेरैको शरीर रोग बनेको छ । शरीरले थेग्नेभन्दा बढी र अस्वस्थ्यकर खानपानले रोग निम्त्याउँछ । भनिन्छ नि, खान नपाएर भन्दा खान नजानेर धेरै मानिसको मृत्यु हुन्छ ।
हामी चाडपर्व, पूजा, धर्म-कर्म आदिमा पनि शुद्घ रहनबाट चुक्छौं । अशुद्ध पदार्थ प्रयोग गर्छौं, अशुद्घ कर्म गर्छौं र अशुद्घ नै खान्छौं । चाडपर्वमा सबै भन्दा बढी मांसाहार खानेकुरा खाने गरिन्छ । त्यस्तै, गुलियो, चिल्लो, नुनिलो, तारेका खानेकुरा, जंकफुड, कोल्डडि्रंक्स, पिरो तथा मदिराको सेवन गरिन्छ ।
यी सबैलाई मेडिकल तथा पोषण विज्ञानले रोगका खानीको रुपमा जान्ने गर्दछ । यस्ता रोग नै रोग लगाउने चिजहरु सेवन गरेपछि शरीरले थेग्ने कुरै भएन । शरीर रोगी बन्छ ।
चाडपर्वमा यी रोग लाग्ने सम्भावना उच्च हुन्छ 
–     पेट तथा पाचन प्रणालीका समस्याहरु, अल्सर, प्यांक्रियाटाइटिस, फूड पोइजनिङ्ग
–     मोटोपन, कोलेस्ट्रोल, कलेजो र मधुमेहका रोगहरू झनै बिग्रने
–        पिसाबका समस्याहरू, यु टि आई
–       मुटु तथा रक्तनलिका समस्या जस्तैः हृदयाघात, उच्चरक्तचाप, मस्तिष्कघात साथै यस्ले जन्माउने प्यारालाइसिस
–       स्नायू प्रणालीः मस्तिष्कघातले गर्दा पक्षघातहरू हुने, र चोटपटक वा दुर्घटना र यीनले हुने स्पाइनलकर्ड इन्जुरी
–     यूरिक एसिडको समस्या बल्झिने
–        ढाड दुख्ने वा नशा च्यापिने समस्या बल्झिने वा बढ्ने आदि
यी सबै खानपिन र जीवनशैलीसँग सम्बन्धित रोगहरु हुन् । यी रोगका साथै पटाखा आदिले तराई क्षेत्रमा वायु प्रदुषण बढेर हुने फोक्सोका समस्या तथा जल्ने समस्या पनि यो बेला बढ्न सक्छ ।
विभिन्न कारणहरुले एक जनालाई रोग वा समस्या आउँदा परिवारको उत्सव नै विग्रने मात्र होइन तनाव अनि शोकले भरिने गरेको पनि हामीले देखेका छौं । हामीले चाडपर्वका समयमा खानपिन तथा जीवनशैलीमा एकदमै बढी लापरवाही गर्ने हुनाले यी रोगहरू बढेका हुन् ।
त्यसैले अत्याधिक सेवन गर्ने अस्वस्थकर पदार्थ के हुन यसबारे जान्नुपर्छ । साथै, यस्तै कुनै गल्ती  गरेर आफ्नो स्वास्थ्य बिगारिरहेका त छैनौं । यसबारे पनि हेरौं, बुझौं र स्वस्थकर विकल्पहरु अपनाऔं ।
  सकेसम्म कम खानु पर्ने खाद्य यसका स्वस्थकर विकल्प तारेका खानेकुरा -पुरीको विकल्पमा रोटीमा नौनीदलेर खाने -पापड तारेर होइन आगोमा सेक्ने
-सेकुवा र तारेको मासुको विकल्पमा बेक गर्ने, कुकरमा पकाउने, ��सिन्ने, बफाउने वा एल्मुनियम फोइल वा केराको पातभित्र राखी पकाउने/सेकुवा बनाउने
-आलिभ आयल तथा आलसको तेल सबैभन्दा स्वस्थकर तेलहरु हुन्
नुनिलो/गुलियो/चिल्लो खाना, प्याकेटका जंकफूड -नखाने, सकेसम्मकम खाने वा घरमै स्वस्थकर तरीकाले बनाउने ।
-खाना बनाउँदा नुन राख्नु भन्दा खाना पाकेपछि नुन ��र्कनु स्वस्थकर हुन्छ र कम नुनले काम चल्छ ।
-प्याकेटका जंकफुड भन्दा घरमै बनाएका चटपटे तथा पानीपूरी धेरै गुणा स्वस्थकर हुन्छन् ।
रातो मासु अर्थात खसी, बोका, च्यांग्रा आदिको मासु -मानव स्वास्थ्यको निम्ति शाकाहारी भोजन  नै सबैभन्दा उत्तम उपाय हो -सेतो मासु वा सकेसम्म चिसो पानीका माछा
-याद राख्नुहोस तारेका विकृत खाना तथा जंकफुड खानु र मांसाहार गर्नु उत्तिकै हानीकारक छन् ।
-खसी, बोका वा च्यांग्रा आदिको मासु भन्दा भैंसिको मासुमा तुलनात्मक रुपले बोसो धेरै गुणा कम हुन्छ । ८५ ग्राम खसी, भेडा, बोका, च्यांग्राको मासुमा अन्दाजी १८ ग्राम बोसो हुन्छ भने भैंसीको मासुमा दुई ग्राममात्र वोसो हुन्छ ।
तारेको मासु -उसिन्ने, बफाउने, उमाल्ने आदि सबैभन्दा राम्रा पकाउने तरीका हुन भने चिल्लोमा भुट्ने, सेकुवा बनाउने, तार्ने आदि सबैभन्दा खतरनाक हुन् । तारेर तथा जलाएर सेकुवा बनाउने प्रकृयाले माछा, मासुमा सैकडौ किसिमका क्यान्सर पैदा गर्ने कार्सिनोजेनीक केमिकलहरु पैदा हुने गर्छ । त्यसैले यसको विकल्पमा एल्यूमिनियम फोइल वा केराको पातभित्र राखी पकाउने/सेकुवा बनाउने प्रकृया सुरक्षित हुन्छ । झेालमासु -पकाएको मासुको झोल भन्दा चौटा मात्र खानु स्वस्थकर हुन्छ । बोसो तथा हानीकारक तत्व चौटा भन्दा झोलमा बढी हुन्छन् ।
-मासुमा रहेको प्रायःजसो बोसो झोलमा जाने हुनाले झोल नखाएर बोसो नटाँ सिएको तथा छाला नभएको चौटा मात्र  खानु स्वस्थकर हुन्छ ।
घिउ, क्रिम सकेसम्म जैतुन-अलिभ आयल र आलसको तेल प्रयोग गरौं डालडा र मार्जराइन -सकेसम्म त प्रयोग नै नगर्ने । यसको साटो नौनी वा तेल प्रयोग गर्ने, डालडा तथा मार्जराइनलाई जलाउने मानव शरीरमा कुनै प्रकृया नै छैन । त्यसैले यी रक्त नलिमा जमेर सैकडौं रोग पैदा गर्दछन् । चिनी -चिनी मन्द विष हो । चिनीको सबैभन्दा राम्रो विकल्प भनेको स्टेभिया नै हो । स्टेभियामा क्यालोरीकेा मात्रा ज्यादै न्युन हुन्छ ।
-मह, शख्खर, खुदो -यिनले सुगर बढाउँन सक्छन्) ।
बोतलबन्द पेय, कोल्डडि्रन्क्स, रक्सी ताजा जुस, मह कागती पानी प्याकेट तथा बोतलका जुस सबैजसो प्याकेट वा बोतलका जुस चिनी मन्द विषका घोलहरु हुन्  । त्यसैले फलफुल तथा ताजा जुस नै सर्वोत्तम विकल्प हुन् ।
0 notes